Social

अल्हम्दुलिल्लाह का मतलब क्या है? Alhamdulillah ka matlab kya hai

 अल्हम्दुलिल्लाह का मतलब क्या है? Alhamdulillah ka matlab kya hai

नमस्कार दोस्तों आपका बहुत-बहुत स्वागत है हमारे वेबसाइट Rstbox com पर दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में बात करने वाले हैं कि अल्हम्दुलिल्लाह का मतलब क्या होता है , अल्हम्दुलिल्लाह का सार्थक अर्थ क्या हैै, माशाअल्लाह का अर्थ क्या है, जजाकल्लाह का अर्थ क्या हैै, इंशाअल्लाह का अर्थ क्या है एवं अरबी के और भी कुछ तथ्य तो इन सभी जानकारी को अर्जित करने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें यदि आपको यह आर्टिकल थोड़ा सा भी पसंद आता है तो कमेंट बॉक्स में yes लिखकर हमारा हौसला जरूर बढ़ााएं कि हम आगे से ऐसे ज्ञानवर्धक आर्टिकल लिखते रहें
अल्हम्दुलिल्लाह शब्द का प्रयोग मुसलमान एवं अरबी बोलने वाले लोग ज्यादातर करते हैं अल्हम्दुलिल्लाह अरबी भाषा का शब्द है अल्हम्दुलिल्लाह शब्द अरबी भाषा के पवित्र पुस्तक कुरान की पहली आयत से लिया गया है जिसका अर्थ है अल्लाह के पति कृतज्ञता का भाव रखना या अल्लाह को धन्यवाद देना।यह शब्द मुसलमाान भाइयों के मुंह से निकलता रहता है जो अल्लाह के प्रति कृतज्ञता का भाव रखते हैं या अल्लाह को धन्यवाद करते हैं वह अपनी बातों में इस शब्द को जोड़ते रहते हैं और हमेशा अल्लाह के प्रति अपनी भावना को बनाकर रखते हैं 
अल्हम्दुलिल्लाह शब्द अरबी भाषा के 3 शब्दों से मिलकर बना है (अल+हमद+इल्लाह) इन तीनों शब्दों का अपना अलग-अलग एक अर्थ होता है
जैसे अंग्रेजी के शब्द में किसी शब्द के आगे the लगा देने से शब्द की महत्वता बढ़ जाती है उसी प्रकार अरबी भाषा में अल लगा देने से उस शब्द की महत्वता बढ़ जाती है
हमद शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है प्रशंसा करना या कृतज्ञता का भाव प्रकट करना और इलल्लाह शब्द का सार्थक अर्थ अल्लाह होता है यानी कुल मिलाकर अल्हम्दुलिल्लाह शब्द का अर्थ अल्लाह की याद सदैव बनाए रखना

माशाअल्लाह का क्या अर्थ होता है(Masha Allah ka kya Arth hota hai)

माशाअल्लाह एक और अरबी शब्द है इसका प्रयोग इस्लामिक संप्रदाय वाले ज्यादातर करते हैं इस शब्द का प्रयोग हर मुसलमान हर जगह पर करता है आपने भी कहीं ना कहीं जरूर सुना होगा माशाअल्लाह का प्रयोग जरूर करते हैं माशा अल्लाह का साधारण सा अर्थ होता है किसी की तारीफ करना यदि आप किसी का तारीफ कर रहे हैं उसमें माशा अल्लाह का प्रयोग करते हैं तो उस कार्य में चार चांद लगाने का काम माशाअल्लाह करता है माशा अल्लाह का प्रयोग और भी जगह पर किया जाता है जैसे किसी की शान और शौकत देख कर उसको शाबाशी के तौर पर माशाअल्लाह कहा जाता है या किसी की सुंदरता को देखकर उसे किसी की नजर ना लग जाए इसलिए भी माशा अल्लाह का प्रयोग किया जाता है उदाहरण के तौर पर आप नीचे देख सकते हैं
उदाहरण
माशा अल्लाह आपका घर कितना खूबसूरत है
माशाअल्लाह आप बहुत खूबसूरत हैं
अगर हम माशा अल्लाह को छोटे शब्दों में लिखे तो माशाअल्लाह का छोटा अर्थ होता है अल्लाह ने जैसा चाहा।

इंशा अल्लाह का मतलब क्या है(inshallah ka matlab kya hai)

जब व्यक्ति को अपने भविष्य के बारे में पता नहीं रहता और व्यक्ति भविष्य के बारे में बात करता है वहां पर इंशाअल्लाह का प्रयोग होता है जैसे कि कोई व्यक्ति कहता है कि मैं तुमसे कल आकर मिलूंगा तो उस व्यक्ति को यह नहीं पता है कि कल उसकी जान अल्लाह के हाथ में होगी या फिर उसके हाथ में इसलिए वहां पर इंशाअल्लाह का प्रयोग होता है कि है अल्लाह अगर मैं सही सलामत रहा तो मैं कल उनसे मिलूंगा उदाहरण के तौर पर इंशाअल्लाह मैं कल स्कूल जाऊंगा इंशा अल्लाह कल मैं शहर को जाऊंगा आदि

सुभान अल्लाह का मतलब क्या होता है? Subhanallah ka matlab kya hai

सुभान अल्लाह का प्रयोग मुस्लिम संप्रदाय के लोग करते हैं यह एक अरबी भाषा है जब वह लोग किसी सुंदर चीज के बारे में बात करते हैं या किसी सुंदर चीज को देखते हैं तो सुभान अल्लाह का प्रयोग करते हैं जैसे कि सुभान अल्लाह आप बहुत अच्छे हैं सुभानल्लाह वह घर बहुत अच्छा है आदि

जजाकल्लाह का अर्थ (jajakallah ka Arth)

जजाकल्लाह अरबी भाषा के कुरान से लिया गया है यह शब्द अरबी भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है जजाक+अल्लाह जजाक का अर्थ होता है कल्याण एवं अल्लाह का अर्थ होता ईश्वर जजाक अल्लाह का पूरा अर्थ होता है अल्लाह तुम्हें खुश रखे लेकिन आपके जानकारी के लिए मैं बता दूं कि जजाक अल्लाह एक अधूरा शब्द है जजाकल्लाह के बाद में जब खैर का प्रयोग किया जाता है तभी जा कर संपूर्ण शब्द बनता है जैसे कि जजाकल्लाह खैर इस पूरे शब्द का अर्थ होता है अल्लाह तुम्हें खुश रखे अल्लाह तुम्हारी खैरियत रखे। लेकिन आज के आधुनिक समय में जजाकल्लाह कहने का ही प्रचलन है जजाकल्लाह खैर बहुत कम लोग ही कहते हैं

अल्हम्दुलिल्लाह का महत्व(Alhamdulillah ka mahatva)

जैसा कि मैंने ऊपर भी कहा है कि अल्हम्दुलिल्लाह शब्द का अर्थ समय-समय पर बदल जाता है और उसका महत्व भी समय-समय पर बदल जाता है तो आइए जानते हैं किस-किस समय पर अल्हम्दुलिल्लाह का प्रयोग किया जाता है
  • अल्लाह को शुक्रिया अदा करने के लिए अल्हम्दुलिल्लाह का प्रयोग किया जाता है
  • मन में अल्लाह की याद बनाए रखने के लिए अल्हम्दुलिल्लाह का प्रयोग किया जाता है
  • कठिन परिस्थितियों में अल्हम्दुलिल्लाह का प्रयोग किया जाता है ऐसा लोग मानते हैं कि कठिन परिस्थितियों को देने वाला अल्लाह है तो अल्लाह इस कठिन परिस्थिति से हमें जरूर निकालेगा
  • अल्लाह की प्रशंसा करने के लिए अल्हम्दुलिल्लाह का प्रयोग किया जाता है जिसमें ईश्वर के या अल्लाह के गुणों के बारे में संक्षिप्त रूप में बताया जाता है
निष्कर्ष
ऊपर जितने भी प्रश्न दिए गए हैं उन सभी प्रश्नों का एक ही उत्तर निकलता है कि ईश्वर सर्वोपरि है उसकी याद हमेशा बनाए रखना किसी का शुक्रिया अदा करना हो किसी के बारे में बात करना हो या कुछ भी करना हो ईश्वर या अल्लाह का नाम हमेशा लेते रहना यही इस आर्टिकल का का अर्थ है। हमें विश्वास है कि आपको यह आर्टिकल बहुत ही पसंद आया होगा यदि आपको यह आर्टिकल थोड़ा सा भी पसंद आया हो अगर इस आजकल से आपको थोड़ा सा भी ज्ञान प्राप्त हुआ हो तो हमारे वेबसाइट के साथ बने रहें और हां यदि इस आर्टिकल में कोई स्पेलिंग या कोई त्रुटि रह गया है तो हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं उसे सुधारने की पूरी कोशिश

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button