Health

चाय पीने के फायदे और नुकसान chay peene ke fayde aur nuksan in Hindi.rstbox.

चाय पीने के फायदे और नुकसान chay peene ke fayde aur nuksan in Hindi.rstbox.

नमस्कार  प्रिय पाठको आपका हमारे वेबसाइट पर आप लोगों का बहुत-बहुत स्वागत है। जैसा कि आप जानते हैं कि चाय जिसे अंग्रेजी में tea भी कहा जाता हैं। चाय दुनिया भर में सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है। चाय के दीवाने आपको दुनिया भर में मिल जाएंगे। एक वैज्ञानिक शोध मैं यह पता लगाया गया है की चाय पीने से क्या क्या फायदे होते हैं।
जिसके फलस्वरूप चाय की लोकप्रियता लोगों के बीच में और बढ़ गई है कई शोध में यह पाया गया है। कि चाय कई शारीरिक समस्याओं को कम करने में अत्यधिक लाभदायक है। आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि चाय भारतीय देन नहीं है। चाय को अंग्रेज अपने साथ में लाए थे लेकिन उस वक्त भारतीयों ने सोचा कि अंग्रेजों के इस महंगे शौक को हमें भी अपनाना चाहिए। और तब से लेकर भारतीयों ने चाय को अपने गले लगा लिया। और आज भी भारत में चाय की लोकप्रियता बहुत है तो इसी सब बातों को ध्यान में रखते हुए हम आज चाय के फायदे और नुकसान के बारे में जानेंगे तो चलिए सबसे पहले चाय के फायदे के बारे में जान लेते हैं

चाय पीने के फायदे chay peene ke fayde

चाय एक गर्म पदार्थ है। जो दूध, पानी तथा चाय पत्ती और चीनी के मिश्रण से बनाया जाता है। चाय सिर्फ प्यास बुझाने के लिए नहीं बल्कि चाय को एक शौकीन तरीके से इस्तेमाल किया जाता है। चाय सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि संपूर्ण विश्व में और प्रत्येक देश में चाय पीने का प्रक्रिया जरूर होता है। बहुत लोग तो ऐसे भी होते हैं जो दिन भर में लगभग 5 से 6 बार चाय पीते हैं। परंतु जब कोई भी खाद्य पदार्थ ज्यादा खाया पिया जाता है तो वह नुकसान का कारक बन जाता है अतः चाय अत्यधिक नहीं पीना चाहिए। यदि चाय सही तरीके से पिया जाता है तो उसके तमाम फायदे हैं।जो मैं आपको कुछ पॉइंट के माध्यम से बता रहा हूं।
  • चाय कैंसर हृदय रोग मधुमेह और गठिया जैसे रोगों में चाय बहुत फायदेमंद है।
  • चाय सर्दियों में बहुत फायदेमंद माना जाता है चाय ज्यादातर ठंडे प्रदेशों में उपयोग किया जाता है चाय से ठंड का प्रभाव कम मालूम होता है। आगे हम क्रमबद्ध चाय के फायदे आपको बताएंगे परंतु किसी बीमारी का इलाज चाय को ही मान लेना या गलत है क्योंकि डॉक्टर के परामर्श के बिना किसी भी रोग का इलाज चाय से करना सही नहीं है

1- रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि rog pratirodhak chhamta me briddhi

हमारा शरीर कई बार हल्के सर्दी जुखाम से भी ज्यादा परेशान हो जाता है।जिसका कारण है रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी emunity में कमी चाय इस कमी को दूर करता है क्योंकि चाय में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो आपके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में काम करते हैं अगर आपको भी जरा जरा सी बात में सर्दी जुखाम बुखार जैसी बीमारियां होने लगती है तो चाय का उपयोग दिन में तीन बार जरूर करें।आज के करोना कॉल में आप देख सकते हैं कि अपनी इम्यूनिटी की क्षमता को बढ़ाने के लिए डॉक्टर चाय पीने की सलाह जरूर देतेे हैं। इस प्रकार सेे सही शब्दों में यह कहा जा सकता है कि चाय के द्वारा हम अपने शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को काफीी ज्यादा हद तक बढ़ा सकते हैं।

चाय पीने से कैंसर में लाभ chay peene se kancer me labh

चाय कैंसर के विरुद्ध शरीर की रक्षा करती है। क्योंकि चाय में पोली फिनायल और एंटी ऑक्सीडेंट होते हैं जिसके कारण हमारे शरीर को कैंसर से लड़ने में बहुत मदद मिलती है यदि आप भी कैंसर जैसे भयानक रोग से ग्रसित है या उससे बचना चाहते हैं तो दिन में एक से दो कप चाय का सेवन जरूर करें। कैंसर का इलाज किस समय डॉक्टर भी चाय पीने की सलाह जरूूूर देते हैं। आप लोग यह अच्छी तरह जानतेे हैं कि कैंसर एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है। जो गंभीर हो जाने पर जानलेवा हो सकती है। और यदि चाय के द्वारा हमें थोड़ा बहुत लाभ मिलता है तो हमें चाय जरूर पीनाा चाहिए।

3-चाय पानी की कमी को दूर करता है chai Pani ki Kami ko dur karta hai 

चाय हमारे शरीर को हाइड्रेट करने में बहुत मदद  करता है वहीं पर कॉफी पीने से पेशाब ज्यादा आने लगता है। इसलिए कॉफी हमारे शरीर में ज्यादा देर तक नहीं टिक पाती और वह शरीर से बाहर निकल जाती है लेकिन चाय हमारी जरूरत है चाय हमारे शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है इसलिए दिन में दो कप चाय का सेवन अवश्य करना चाहिए

4-शरीर का वजन कम करने में सहायक sharir ka vajan kam karne mein sahayak

आधुनिक युग में आप लोगों ने देखा होगा कि बहुत लोगों का मोटापा बहुत ज्यादा बढ़ता जाता है।जिसके कारण उनके शरीर में अनेक प्रकार की बीमारियां फैल जाती हैं और वह अपने भारी शरीर से परेशान हो जाते हैं। आप चाय के द्वारा आप अपने वजन को काफी मात्रा में घटा सकते हैं।चाय पीने से आपके शरीर का मेटाबॉलिज्म बढ़ जाता है कई लोगों का शिकायत है कि व्यायाम करने के बाद भी उनका मोटापा कम नहीं होता है लेकिन अगर आप black tea तथा ग्रीन टी का सेवन करें जिसमें बिना दूध डालें और बिना चीनी डालें तो आपके शरीर में जो कैलोरी बर्न होती है उसकी रफ्तार 2 से 3 गुना बढ़ा देती है  इसका सेवन करने के बाद दिन में आप एक या आधा घंटा runing या walk करें ऐसा करने से आपका मोटापा धीरे-धीरे कम होने लगता है।

5-हड्डियों को मजबूत बनाता है makes bones strong

चाय आपके हड्डियों को भी मजबूत बनाती है। केवल इसलिए नहीं कि उसमें दूध मिला होता है बल्कि एक अध्ययन उन लोगों की तुलना एक साथ में की गई जो कि एक 10 साल से चाय पी रहा है और एक जो चाय नहीं पी रहा है अध्ययन में यह पाया गया कि जो 10 साल से चाय का सेवन कर रहा है उसकी हड्डियां धूम्रपान ज्यादा उम्र व्यायाम अधिक वजन और अन्य फैक्टर के बावजूद भी मजबूत होती है। इसलिए आप भी यदि अपनी हड्डियों को मजबूत बनाना चाहते हैं तो चाय का सेवन जरूर करें।

6-नींद को दूर करता है nind ko dur karta hai

आपने देखा होगा कि बहुत लोग ऐसे भी होते हैं जो सुबह सोकर उठते हैं तो पहले बिस्तर पर ही चाय पीते हैं। उसके बाद टॉयलेट को जाते हैं क्योंकि जब कोई भी मनुष्य सो कर उठता है तो उसका मस्तिष्क ठीक ढंग से कार्य नहीं कर पाता है। ऐसी स्थिति में चाय पीने पर मस्तिष्क में एक ताजगी उत्पन्न हो जाती है और व्यक्ति अपने कार्य के लिए तत्पर हो जाता है। आपने देखा होगा कि रात्रि में यदि कोई कार्य करना होता है तो हम रात में नींद लगने पर चाय पी लेते हैं जिससे एक-दो घंटे के लिए हमारी नींद दूर हो जाती है। इस प्रकार से नींद को भगाने के लिए चाय बहुत ही बढ़िया तरीका है। क्योंकि नींद आने की दवा तो होती है परंतु नींद को भगाने की कोई दवा नहीं होती है ऐसी परिस्थिति में सिर्फ चाय ही एकमात्र ऐसा विकल्प है जिसके द्वारा हम अपनी नींद को भगाने में कामयाब हो सकते हैं।

चाय पीने के नुकसान disadvantages of drinking tea

जैसे एक सिक्के के दो पहलू होते हैं उसी तरह जिसमें फायदा होगा उसमें नुकसान होगा। किसी ने कहा है कि अति सबका खराब होता है चाहे वह पानी ही क्यों ना हो जितना चाय से फायदा है उससे कहीं अधिक नुकसान भी है ।चाय का सेवन अधिक करने से हमारे शरीर को बहुत नुकसान होता है चाय में कैफीन नमक पदार्थ पाया जाता है जो कि एक प्रकार का alkohal (नशा) है ज्यादा चाय के सेवन से चाय की लत पड़ जाती है जिसके कारण बहुत से रोग जैसे पेट का खराब होना ,पाचन सकती कमजोर,पेट में तेजाब बनना सुरु हो जाता है, एसिडिटी, गैस,बवासीर, डायबिटीज शुगर और अपच जैसे रोग उत्पन्न होने लगते हैं। चाय का अत्यधिक सेवन करने से होने वालेेे नुकसान निम्नलिखित हैं।
  • अधिक मात्रा में चाय पीने से भूख का लगना कम हो जाता है।
  • चाय का अत्यधिक सेवन करने से डायबिटीज शुगर जैसी बीमारियां शरीर को घेर लेती हैं।
  • खाली पेट चाय पीने से गैस्ट्रिक की समस्या होने लग जाती है।
  • चाय में कोकीन नामक नशीली दवाई का उपयोग किया जाता है जिसके कारण प्रतिदिन चाय पीने से उसकी आदत बन जाती है और फिर बंदा मजबूर होकर चाय पीने लग जाता है।
  • चाय में कोकीन नामक अल्कोहल पाया जाता है जो हमारे मस्तिष्क पर बुरा असर डालता है कुछ समय पश्चात चिंता तनाव अनिद्रा इत्यादि समस्याएं जन्म लेने लग जाती है।
  • औरतों का जब माहवारी चल रहा होता है उस समय चाय का सेवन बिल्कुल भी ना करें क्योंकि इस समय पर चाय का अत्यधिक सेवन करने से माहवारी कई दिनों तक हो सकता है।
  • अत्यधिक चाय का सेवन करने से पाचन शक्ति खराब हो जाती है और धीरे-धीरे हम भोजन कम आने लग जाते हैं और हमारा शरीर कमजोर होता चला जाता।

चाय बनाने की विधि how to make tea

संपूर्ण विश्व में चाय पीने का एक प्रक्रिया होता है। अतः चाय बनाने की विधि को जान लेते हैं।वैसे तो अलग-अलग देशों में अलग-अलग तरीकों के द्वारा चाय बनाया जाता है। परंतु मैं भारत का रहने वाला हूं इसलिए आज मैं आप लोगों को भारत में चाय किस प्रकार से बनाई जाती है। यह आपको जरूर बताऊंगा। चाय बनाने के लिए सबसे पहले आप किसी भी बर्तन में पानी को गर्म करने के लिए गैस पर रख दे। उसके बाद उसमें चीनी तथा चाय पत्ती को डाल दें, उसके बाद अदरक और इलायची तथा काली मिर्च को एक साथ पेस्ट बनाकर डाल दें इससे चाय का स्वाद दोगुना हो जाता है। इसके पश्चात आप इसमें दूध डाल दें। दूध चाय की क्वालिटी को काफी मात्रा में बढ़ा देता है। अतः आप आवश्यकता अनुसार दूध को डाल सकते हैं। तमाम ऐसे लोग होते हैं जो सिर्फ दूध का ही चाय बनाते हैं जो पीने में बहुत स्वादिष्ट होता है। कुछ लोग बिना दूध के काली चाय यानी black tea की का भी इस्तेमाल करते हैं। इस प्रकार से अलग-अलग लोगों के द्वारा अलग अलग तरीके से चाय बनाया जाता है।

चाय पत्ती का उपयोग कैसे करें how to use tea

वैसे तो चाय को पीने के लिए उपयोग किया जाता है परंतु चाय का लाभ उठाने के लिए निम्न प्रकार से उपयोग करें
  • चाय का उपयोग चेहरे पर डार्क सर्कल को दूर करने के लिए किया जा सकता है इसमें चाय को कुछ देर के लिए चेहरे पर लगा कर रखना होता है
  • चाय का उपयोग ठंड के मौसम में सर्दी खांसी दूर करने के लिए चाय को अदरक तुलसी इलाची के साथ मिलाकर बनाया जाता है जिससे सर्दी खासी में लाभ मिलता है
  • चाय को काली मिर्च और दालचीनी के साथ मिलाकर बनाने पर चाय को काढ़े के रूप में भी उपयोग किया जा सकता है
  • दूध में कम मात्रा में चाय डालकर चाय को दूधपत्ती के रुप में भी आनंद लिया जा सकता है

निष्कर्ष conclusion

संपूर्ण पोस्ट पढ़ने के पश्चात यह निष्कर्ष निकलता है कि सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि प्रत्येक देशों में चाय पीने का एक रिवाज होता है जो सिर्फ प्यास या स्वाद के लिए नहीं बल्कि शौकीन तरीके के द्वारा भी किया जाता है।चाय पीने के अनेक फायदे होते हैं जो हमने इस पोस्ट में भली-भांति पड़ा है। परंतु चाय की मात्रा अधिक हो जाए तो इससे तमाम हानिया भी होती हैं। अत्यधिक चाय का सेवन करने से डायबिटीज शुगर तथा गैस्ट्रिक और अपच जैसी समस्याएं जन्म ले लेती हैं जिसके द्वारा द्वारा हमारा जीवन बहुत ही भारी लगने लग जाता है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए हमें चाय मध्यम मात्रा में पीना चाहिए जिससे इसके फायदों को उठाया जा सके।
Disclaimer
हमें आशा है कि आप को चाय से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त हो गई है Rstbox काफी सर्च रिसर्च के बाद जानकारी उपलब्ध करवाता है  यदि उसमें कोई प्रश्न छूट गया है या कोई गलती हो गई है तो कमेंट बॉक्स में हमे जरूर बताएं हम उसे सुधारने की कोशिश जरूर करेंगे 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button