Uncategorized

पीरियड में पेट दर्द की टेबलेट नाम (stomach pain tablet name in period hindi)

 पीरियड में पेट दर्द की टेबलेट नाम (stomach pain tablet name in period hindi)

नमस्कार दोस्तों आप लोगों का हमारे वेबसाइट पर बहुत-बहुत स्वागत है। हमारी वेबसाइट पर आप लोगों को अनेक प्रकार की जानकारियां प्राप्त होती हैं। आज मैं अपने इस पोस्ट में helth से रिलेटेड एक ऐसा पोस्ट लिख रहा हूं जिसके बारे में प्रत्येक महिला को जानना बहुत ही आवश्यक होता है। महिलाओं के जीवन में पीरियड्स एक ऐसी क्रिया होती है जो प्रत्येक महीने में लगभग 4 से 6 दिन तक की होती है। इस दौरान प्रत्येक महिलाओं का शरीर और मस्तिष्क दोनों ही प्रभावित रहता है। अतः प्रत्येक महिलाओं को पीरियड्स के बारे में जानना बहुत ही आवश्यक होता है। अतः इस पोस्ट में आज मैं आप लोगों को पीरियड्स के बारे में तमाम जानकारी देने वाला हूं क्योंकि अधिकतर महिलाओं ने पीरियड्स आने के समय यह पीरियड आने के एक-दो दिन पहले पेट दर्द की समस्या बहुत ज्यादा होने लगती है। पता इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए मैं अपनों को कुछ ऐसी दवाइयों के नाम बताने वाला हूं जो पीरियड के समय होने वाले परिवर्तन काफी ज्यादा हेल्पफुल माने जाते हैं और बहुत ही जल्द पेट दर्द की समस्या समाप्त हो जाती है। आज मैं इस पोस्ट में पीरियड्स में होने वाले पेट दर्द कि कुछ अंग्रेजी दवाइयां और टेबलेट के नाम बताऊंगा उस उनके द्वारा आप बड़ी ही आसानी से अपने पीरियड्स के समय पीरियड्स के पहले होने वाले दर्द से छुटकारा पा सकते हैं। हमारे इस आर्टिकल में आप लोगों को इसके अलावा अनेक जानकारियां जैसे पीरियड्स के आने के पहले दर्द क्यों होते हैं? पीरियड्स में क्या खाना चाहिए? क्या नहीं खाना चाहिए?पीरियड्स में होने वाले दर्द से छुटकारा पाने के कुछ घरेलू उपाय? इत्यादि तमाम प्रश्नों के उत्तर इस पोस्ट में आप लोगों को मिल जाएंगी। अतः इस कितना करते हुए इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें जिससे आप लोगों को पूरी जानकारी प्राप्त हो सके।

पीरियड्स में पेट दर्द टेबलेट का नाम अंग्रेजी में stomach pain in periods name of tablet in english

महिलाओं में प्रत्येक महीने में पीरियड्स का समय एक ऐसा समय होता है जिसके दौरान एक महिला को कठिन से कठिन परिस्थिति का सामना करना पड़ता है। इस दौरान महिला को योनि से रक्तस्राव होता है। पीरियड्स आने के पहले पेट में पेट के निचले हिस्से में दर्द का अनुभव होता है। अतः अनेक महिलाएं ऐसी होती हैं जो इस दर्द को कम करने के लिए उल्टी-सीधी दवाइयों का इस्तेमाल करते हैं जो उनके लिए काफी हानिकारक साबित हो जाता है। अतः ऐसी समस्या आपके साथ में हो रही है तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें क्योंकि मैं आप लोगों को पेट दर्द टेबलेट बताऊंगा जिनके द्वारा आप बड़ी ही आसानी से अपने पीरियड के दौरान होने वाले पेट दर्द की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। पीरियड्स के दौरान होने वाला दर्द दो तरह का होता है। पहला तो जब पीरियड आने में लगभग 1 से 2 दिन रह जाता है उस समय पेट में हल्का दर्द होने लग जाता है। यह समस्या अधिकतर युवा महिलाओं में तथा 25 साल से कम की आयु में होता है। यह एक प्राथमिक दर्द है जो बहुत ही नॉर्मल दर्द होता है और इसको कोई भी दर्द रोधक दवा का इस्तेमाल करके बड़ी ही आसानी से इससे छुटकारा पाया जा सकता है। अतः कुछ दवाओं के नाम का लिस्ट हम आप लोगों को दे रहे हैं, जिनके द्वारा आप अपने पीरियड में होने वाले दर्द से छुटकारा पा सकते हैं।
  • Diclowin plus
  • Brufen
  • Flexon
  • Simethicone
  • Antacid
  • Famotidine
  • Ranitidine
  • Docusate
  • Bisacodyl
  • Loperamide
  • Bismuth
  • Aleve
  • Promethazine theolate
  • Lactaid
  • Dipep
  • Ashokarishta
  • Zandu Pancharishta
  • Haslab Digesto Syrup

पीरियड्स में होने वाले दर्द के प्रकार types of period pain

मासिक के दौरान महिलाओं कि निछले हिस्से में असहनीय दर्द होता है जो महिलाओं को अत्यंत प्रभावित करता है यह दो प्रकार का होता है।
1-प्राइमरी पेन (primry pain)
2-सेकेंडरी पेन (secondary pan)
1-प्राइमरी पेन के अंतर्गत महिलाओं के पीरियड आने के लगभग दो-तीन दिन पहले शुरू हो जाता है जो पीरियड्स के आने का संकेत होता है। यह तक पीरियड्स आने के पश्चात समाप्त हो जाता है। यह दर्द कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह एक शुभ संकेत है क्योंकि यदि किसी महिला को प्रत्येक महीने सही समय पर पीरियड्स नहीं आते हैं तो उसके गर्भाशय की स्थिति ठीक नहीं मानी जाती है ऐसी परिस्थिति में वह औरत बच्चे पैदा करने में भी सक्षम नहीं हो पाती है।
2-सेकेंडरी पेन के अंतर्गत महिलाओं को पीरियड आने के 1 से 2 दिन पहले दर्द शुरू हो जाता है तथा पूरे पीरियड्स के दौरान यानी जब तक उनका पीरियड्स चलता है तब तक उनके पेट में दर्द होता रहता है। ऐसी परिस्थिति में पेट दर्द के साथ साथ जांघों के बीच में भी तथा पीठ के भी निचले हिस्से में दर्द होता रहता है यह हो सकता है कुछ विटामिंस की कमी के कारण भी दर्द हो सकता है। खून की कमी का होना भी इस दर्द का संकेत होता है ऐसी स्थिति में आप जल्द से जल्द किसी डॉक्टर को बताएं और उचित दवा ले सकते हैं।

पीरियड्स में होने वाले पेट दर्द की घरेलू दवा periyeds mein hone wale pet Dard ki gharelu dava

पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द को कम करने के लिए मार्केट में तमाम ऐसे अंग्रेजी दवाइयां है जिनका इस्तेमाल करके अधिकतर महिलाएं अपने दर्द से राहत पति है परंतु क्या आपको पता है कि यह टेबलेट में खतरनाक साबित हो सकते हैं? यदि आपको इन टेबलेट उस साइड इफेक्ट से छुटकारा पाना है तो आप हमारे द्वारा बताए गए घरेलू दवाइयों का इस्तेमाल करके बड़ी ही आसानी से अपने घर पर ही पीरियड्स में होने वाले दर्द से छुटकारा पा सकते हैं। बहुत सी लड़कियां और महिलाएं ऐसी भी होती हैं जो शर्म के मारे किसी डॉक्टर के पास जाना पसंद नहीं करती हैं उनके लिए यह घरेलू दवाइयां बहुत ही काम की है इसलिए बिना संकोच किए हुए हमारे पोस्ट को ध्यान से पढ़ें क्योंकि मेरे पोस्ट में बहुत ज्यादा मदद मिल सकती है।

1-गुनगुना पानी hot water

पीरियड्स के दौरान यदि आपको दर्द की समस्या हो रही है तो आपके लिए गुनगुना पानी का से ज्यादा सहायक सिद्ध होता है। आप पीरियड्स के दौरान गर्म पानी से नहाए जिससे आपको काफी ज्यादा दर्द से राहत मिलेगी। गुनगुने पानी को थोड़ी थोड़ी करके दिन में लगभग 5 से 7 बार पीते रहे ऐसा करने से आपको पीरियड्स  के दौरान होने वाले दर्द में काफी ज्यादा राहत मिलेगी। यदि आपके जांघों के बीच में भी दर्द का अनुभव हो रहा है तो गर्म पानी के बोतल को जहां के बीच में रख कर आराम कर सकते हैं इससे आपके जादू के बीच में होने वाले दर्द से काफी ज्यादा राहत मिल सकती है।

2-दूध milk

दूध को दर्द से राहत के लिए काफी ज्यादा कारगर माना जाता है।इसलिए पीरियड्स के दौरान विकास के पेट में दर्द की समस्या हो रही है तो आपको हल्का गुनगुना दूध अवश्य पीना चाहिए यह आपको अपने घर के आस-पास ही किसी भी दुकान अथवा किसी के घर में बढ़िया साहनी से प्राप्त हो सकता है। दूध के लिए आपको किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है।

3-अजवाइन ajvayan

पीरियड्स के दौरान होने वाले पेट दर्द वह कम करने के लिए अजवाइन बहुत ही सरल और घरेलू तरीका है जो आपको अपने घर में ही बड़ी आसानी से प्राप्त हो जाता है। एक चम्मच अजवाइन को एक गिलास पानी में डालें तथा उसमें आधा चम्मच नमक डाल दें उसके बाद उसे उबाल दें। अजवाइन को पानी के साथ साथ इस पानी को छानकर दिन में थोड़ा-थोड़ा करके लगभग 3 से 4 बार तक पीने से मासिक में होने वाले दर्द से काफी ज्यादा राहत मिलती है।

4-तुलसी के पत्ते basil leaves

पीरियड में होने वाले पेट दर्द के लिए तुलसी के पत्ते को काफी कारगर माना जाता है तुलसी के पत्तों में उपस्थित caffeic acid दर्द में आराम दिलाने में काफी सहायक होता है। इसलिए आप पानी चाहे तो तुलसी के पत्ते को पानी उबालकर हल्का नमक और चीनी डालकर दिन में लगभग दो-तीन बार पी सकते हैं। आप तुलसी के पत्तों का उपयोग चबाकर भी कर सकते हैं। तुलसी के पत्तों को चाय में डालकर उपयोग में ला सकते हैं जिससे आपके पीरियड्स में होने वाले दर्द में काफी ज्यादा आराम मिल सकता है।

पीरियड्स में क्या खाना चाहिए periods mein kya khana chahie

पीरियड्स के दौरान महिलाओं को काफी ज्यादा परेशानी का सामना उठाना पड़ जाता है। अतः periods के दौरान खानपान का विशेष ध्यान रखना आवश्यक होता है। इस दौरान वैसे तो कुछ खाने पीने का मन भी नहीं करता है तथा महिलाओं का मन कुछ चिड़चिड़ा सा हो जाता है। इसलिए ऐसी परिस्थिति में खानपान का सही होना काफी ज्यादा मायने रखता है इसलिए पीरियड्स के दौरान क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए यह ज्यादा अहम सवाल हो जाता है आइए जानते हैं कि उसके दौरान हमें कौन कौन से खाद्य पदार्थ खाने चाहिए।

1-पपीता papaya

पीरियड्स के दौरान महिलाओं के पेट में काफी दर्द का अनुभव होता है। क्योंकि पीरियड्स के समय पेट में गैस बनने की संभावना भी ज्यादा से ज्यादा होती है हो सकता है इस वजह से भी पेट दर्द कर रहा हूं इसलिए ऐसी परिस्थिति में पपीता खाना बहुत कारगर माना जाता है जो आपको गैस एसिडिटी से तुरंत राहत दिलाता है और पेट दर्द की समस्या को कम करता है।

2-डेयरी उत्पाद Dairy Products

पीरियड्स के समय डेरी से बने हुए खाद्य पदार्थ खाना बहुत ज्यादा आवश्यक होता है यह हमारे शरीर में काफी ज्यादा एनर्जी को बढ़ा देते हैं जिसके कारण चिड़चिड़ापन की समस्या नहीं होती है। और साथ ही साथ चिड़चिड़ापन की वजह से भोजन भी अच्छा नहीं लगता अतः इन सब समस्याओं के द्वारा शरीर में खून की कमी या कमजोरी की भी समस्या उत्पन्न होने लग जाती है इसलिए डेरी से बने हुए खाद्य पदार्थ जैसे दूध दही घी मक्खन खोया पनीर इत्यादि तमाम ऐसे प्रोडक्ट है जिनको खाने से हमारे शरीर की एनर्जी बरकरार रहती है और पीरियड्स के दौरान होने वाले चित्र कौन से भी छुटकारा मिल जाती है।

3-फाइबर युक्त भोजन Fiber rich food

पीरियड्स के दौरान हमें फाइबर से भरपूर भोजन करना चाहिए जिससे हमारे शरीर में पीरियड्स के दौरान नष्ट होने वाली फाइबर की पूर्ति हो सके। पीरियड्स के समय हमें अधिकतर हरी सब्जियां और पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक पत्ता गोभी और तमाम ऐसे साग हैं जिनका सेवन पीरियड्स के दौरान काफी ज्यादा मददगार साबित होता है और हमारी शरीर में नष्ट होने वाली एनर्जी की पूर्ति हो जाती है।

पीरियड्स में क्या नहीं खाना चाहिए periods mein kya nahin khana chahie

पीरियड्स महिलाओं में होने वाली प्रति महीने के 5 से 6 दिन तक पीरियड्स चलता है जिसके दौरान योनि के माध्यम से रक्त स्त्राव होता रहता है। दौरान महिलाओं में अनेक प्रकार के परेशानियां का सामना करना पड़ जाता है। अतः उन 6 दिनों तक खानपान का विशेष ध्यान रखना आवश्यक होता है आपने हमारे पोस्ट में यह पढ़ा के पीरियड्स के दौरान क्या-क्या खाद्य पदार्थ खाना चाहिए और यह भी जाना अत्यंत आवश्यक है कि ऐसे कौन कौन से खाद्य पदार्थ है जिनका सेवन के दौरान बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए नहीं तो आप के लिए यह बहुत ज्यादा नुकसानदायक सिद्ध हो सकता है। आइए जानते हैं कि पीरियड्स के दौरान कौन कौन से खाद्य पदार्थ नहीं खाने चाहिए।

1-अत्यधिक गर्म भोजन garam bhojan

पीरियड्स के समय अत्यधिक गर्म भोजन करना आपके लिए घातक सिद्ध हो सकता है। इसलिए भोजन करने से पहले भोजन को थाली में परोस कर 5 मिनट के लिए रख दें उसके पश्चात जब भोजन हल्का गर्म हो उस समय भोजन खाएं ताकि पीरियड्स के समय होने वाले रक्तस्त्राव में वृद्धि ना हो क्योंकि यदि रक्त स्त्राव में ज्यादा वृद्धि होने लग जाती है तो हमारे शरीर की एनर्जी घटने लग जाती है इसलिए पीरियड्स के समय अपने गर्म भोजन नहीं करना चाहिए।

2-तेल मसाले tel masale

पीरियड्स के दौरान अधिक तेल मसालों का सेवन नहीं करना चाहिए। मसाले और तेल हमारे शरीर के लिए काफी ज्यादा हानिकारक होते हैं और सामान्य स्थिति होने पर आप खा सकते हैं परंतु पीरियड्स के दौरान 6 दिन का समय बहुत खास होता है इस दौरान आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना होता है इसलिए कोई ऐसी खाद्य सामग्री ना खाएं इसके लिए आपको काफी ज्यादा परेशानी भुगतनी पड़ जाए इसलिए पीरियड्स के दौरान तेल मसाले का सेवन बिल्कुल भी ना करें सिंपल भोजन खा लिया करे।

3-नशीले पदार्थ nasheele padarth

तमाम लड़कियां और महिलाएं ऐसी होते हैं नशीले पदार्थ जैसे बीड़ी सिगरेट गुटखा पान तंबाकू शराब इत्यादि तमाम ऐसे नशीले पदार्थ हैं जिनको खाने पीने की आदत पड़ जाती है और वह मजबूर होकर पीरियड्स के दौरान भी खाने पीने लग जाती हैं परंतु यदि आपको कोई भी खतरे की समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आपको पीरियड्स के दौरान लगभग 5 या 6 दिन तक आपको नशीले पदार्थों का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए यह आपके शरीर के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है।

पीरियड्स के समय दवा खाना चाहिए या नहीं periods ke samay dava khana chahie ya nahin

तमाम महिलाएं ऐसी होती हैं जो पीरियड्स के दौरान भी एक नॉर्मल दिन की तरह ही खानपान तथा प्रत्येक पदार्थों का सेवन करती रहती हैं परंतु यह उनके लिए किसी ना किसी दिन अत्यंत घातक सिद्ध हो जाता है उसके पश्चात उनके समझ में आता है कि हमें काश ऐसा नहीं करना चाहिए। इसलिए तमाम महिलाओं के मन में एक प्रश्न अवश्य होता है कि पीरियड्स के समय हमें दवा का इस्तेमाल करना चाहिए या नहीं करना चाहिए इनका उन्हें उन्हें ज्ञान नहीं होता है।अतः आप लोग यह बताना चाहता हूं कि जब भी आपका पीरियड्स शुरू हो तो आप अंग्रेजी दवा खाने से बचने की कोशिश करें यह आपके लिए काफी ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है। पीरियड्स के दौरान जब भी आप कोई परेशानी महसूस करते हैं तो आपको तुरंत किसी स्पेशलिस्ट जो महिला रोग की अच्छी डॉक्टर हो उसकी सलाह अवश्य लेनी चाहिए उसकी सलाह के मुताबिक ही आपको दवा का इस्तेमाल करना चाहिए। आप अपने मन से पीरियड्स के समय दवा का इस्तेमाल बिल्कुल भी ना करें।

पीरियड्स में नहाना चाहिए या नहीं periods mein nahana chahie ya nahin

आजकल की लड़कियों के तथा महिलाओं के मन में पता नहीं कैसे-कैसे उल्टे सीधे सवाल कुत्ते रहते हैं जिन्हें देख कर मुझे भी आश्चर्य होने लग जाता है यह प्रश्न वह है की पीरियड्स के समय नहाना चाहिए अथवा नहीं। अतः इस सवाल का जवाब यह है की पीरियड के समय हमें लगभग दिन में दो बार नहाना चाहिए ताकि हमारे गुप्तांगों में होने वाले किसी भी इंफेक्शन का असर ना हो सके। अतः कृपा करके गूगल से इस प्रकार के प्रश्न ना करें। पीरियड के समय साफ सफाई का विशेष ध्यान रखना आवश्यक होता है जो आपकी सेहत के लिए तथा आपके घर परिवार के सेहत के लिए काफी ज्यादा अच्छा होता है।

पीरियड्स कितने दिन बाद आता है periods kitne din bad aata hai

वैसे तो सभी महिलाओं को यह भली-भांति ज्ञात होता है कि पीरियड कितने दिन बाद आता है परंतु कुछ महिलाओं में पीरियड्स अलग-अलग समय पर आने के कारण वह कंफ्यूज हो जाती है कि पीरियड चली कितने दिन बाद आता है अतः आज मैं आप लोगों को यह भली-भांति जानकारी देना चाहता हूं कि पीरियड्स कितने दिन बाद आता है। महिलाओं में प्रत्येक महीने पीरियड जाता है जैसे कि आप लोग मान लीजिए कि किसी भी महिला का पीरियड 6 तारीख को शुरू होता है और 4 से 5 दिन तक रहता है तो फिर अगले महीने 6 तारीख को ही उसकी पीरियड आने की संभावना होती है। सकती है कुछ महिलाओं में यह एक-दो दिन आगे पीछे का हो सकता है। इनमें घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है 1 दिन 2 दिन का समय आगे पीछे हो सकता है यह एक नॉर्मल बात है इसके लिए आपको कोई परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। यदि आपको 15 दिन या 20 दिन पर ही पीरियड आ जाते हैं या डेढ़ महीने पर आते हैं इसके अनेक कारण हो सकते हैं अतः इस को भली-भांति से जानने के लिए किसी स्पेशलिस्ट डॉक्टर की सलाह अवश्य लें जिससे इसका समुचित इलाज हो सके।

निष्कर्ष conclusion

संपूर्ण पोस्ट पढ़ने के पश्चात यह निष्कर्ष निकलता है कि महिलाओं में प्रत्येक महीने में 4 दिन का समय पीरियड्स के समय होता है जो महिलाओं को अत्यधिक प्रभावित करने वाला समय होता है। ऐसी परिस्थिति में हो सकता है आपके पेट में दर्द का भी अनुभव हो जिसके लिए हमने तमाम ऐसे पेन किलर दवाओं के नाम दिए हैं जिनके इस्तेमाल के द्वारा आप बड़ी आसानी से अपने पीरियड्स के पहले या पीरियड्स के समय आने वाले दर्द हो रोकने में सहायक हो सकते हैं। पीरियड्स के दौरान हमें खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए अतः हमें इस पोस्ट में पड़ा कि पीरियड्स के दौरान क्या क्या खाना चाहिए और क्या क्या नहीं खाना चाहिए। पीरियड के दौरान अधिकतर विटामिन और फाइबर युक्त तथा प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ खाने चाहिए। पीरियड्स के समय नशीले पदार्थ तेल मसाले अधिकतम मीठे पदार्थ चॉकलेट टॉफी बिस्कुट मिठाइयां इत्यादि सामग्री नहीं खाना चाहिए। तमाम लोगों के ऐसे सवाल भी हैं जो काफी आश्चर्यचकित करने वाले हैं जैसे पीरियड के समय नहाना चाहिए या नहीं ना होना चाहिए आज के समय साफ सफाई का काफी ध्यान रखना आवश्यक होता है इसलिए दिन में लगभग 2 बार में होना अत्यंत आवश्यक होता है। शब्दों के साथ आप लोगों से इस पोस्ट में अपने वाक्य को विराम देता हूं हमारा पोस्ट पढ़ने के लिए आप लोगों का बहुत-बहुत धन्यवाद।
Disclaimer
यह पोस्ट लिखने का मुख्य आशा एक सार्वजनिक जानकारी है। इस पोस्ट में दिए गए कोई भी अंग्रेजी दवा का घरेलू दवा का इस्तेमाल करने की अनुमति मैं नहीं देता हूं इसलिए कोई भी दवा का इस्तेमाल करने से पूर्व डॉक्टर के सलाह अवश्य लें इसलिए बिना डॉक्टर की सलाह कि यदि आप इन दवाओं का इस्तेमाल करते हैं तो उन से होने वाले नुकसान तथा साइड इफेक्ट के जिम्मेदार सिर्फ आप होंगे इस वेबसाइट के मालिक की इसमें कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button