Health

पेट गैस की दवा pet gas ki dava in Hindi.rstbox.com

 पेट गैस की दवा pet gas ki dava in Hindi.rstbox.com

नमस्कार दोस्तों हमारे वेबसाइट पर आप लोगों का बहुत-बहुत स्वागत है, आजकल के जमाने में लोगों का खान-पान इतना ज्यादा बिगड़ गया है कि गैस का problum एक आम समस्या होता जा रहा है। क्योंकि गैस्ट्रिक की समस्या ज्यादा देर बैठे रहने से तथा नींद पूरा ना होने से और तली भुनी तथा मसाले वाली चीज खाने से होती है इससे सेहत पर बहुत ही ज्यादा असर पड़ता है इसलिए किस तरह इस बीमारी से निजात पाया जा सके जिससे हमारा हेल्थ सही रहे। क्योंकि यदि हमारी पेट की समस्या बनी रहती है तो हमारा शरीर स्वस्थ नहीं रहता भोजन के जरिए ही हमारे शरीर में अनेक बीमारियां फैलती है इसलिए आज के aartical में हम इसी बारे में बात करने वाले हैं कि आखिर पेट की समस्या को कैसे दूर किया जा सके पेट की दवा कौन-कौन सी हैं और यदि आपको बहुत दिनों से gastic problum है तो आपको टेंशन लेने की जरूरत नहीं है क्योंकि आज के पोस्ट में आपकोgastic problum का पूरा सलूशन मिल जाएगा इसलिए आप पोस्ट को पूरा पढ़ें जिससे gastic problum में हमें क्या-क्या खाना चाहिए, क्या क्या नहीं खाना चाहिए या इसकी दवाइयां क्या-क्या है अंग्रेजी और घरेलू दवाइयां कौन-कौन सी हैं इस बारे में हम पूरी जानकारी देंगे।

गैस्ट्रिक की घरेलू दवा gastric ki gharelu dawa

हमारे घर में तमाम ऐसी चीजें होती हैं जो पेट गैस के लिए काफी कारगर होती हैं। आज उन्हीं के बारे में बात करने वाले हैं कि वह घरेलू इलाज कौन-कौन से हैं जिनके द्वारा हम गैस्टिक प्रॉब्लम से निजात पा सकते हैं।
  • छोटी हरड़ को देसी घी में भून ले तथा एक मिक्सर जार में डालकर बारीक पीस लें और इसमें आधा की मात्रा में काला नमक mix करें तथा सुबह-शाम गर्म पानी के साथ इसका सेवन करें। पेट संबंधित संपूर्णण बीमारियां समाप्त हो जाएंगी।
  •  सुबह उठकर सेब खाने से पेट गैस की समस्या से छुटकारा मिलता है और सेब से शरीर में खून की मात्रा बढ़ती है।
  • सुबह शाम गर्म पानी पीने से पेट अच्छी तरह साफ हो जाता है।
  • काली मिर्च का प्रतिदिन सेवन करें इससे पेट गैस की प्रॉब्लम दूर हो जाती है।
  • मूली के जूस में एक चम्मच काला नमकbalck salt मिलाकर पीने से पेट संबंधी प्रॉब्लम खत्म हो जाती है।
  • भोजन के साथ सलाद अधिक से अधिक खाएं जिससे पेट में जलन तथा एसिडिटी से राहत होती है।
  • हींग को भूलकर उसमें काला नमक मिलाकर सुबह-शाम खाने से पेट में गैस एसिडिटी से राहत मिलता है।
  • प्रतिदिन केला खाने से पेट साफ रहता है तथा जलन और एसिडिटी से छुटकारा मिलता है।
  • भोजन में अधिकतर सादा भोजन खाएं जैसे दाल रोटी दाल चावल तथा सब्जी में मसाला कम से कम डालें।
  • ज्यादा खट्टी सामग्री ना खाएं क्योंकि इससे पेट में एसिड बनता है और पेट संबंधी प्रॉब्लम बहुत बढ़ जाता है।
  • रोटी खाने के बाद पानी अधिक से अधिक पानी पिएं। इससे पाचन शक्ति बढ़ती है और पेट गैस संबंधी प्रॉब्लम दूर हो जाती है।
  • अदरक को पीसकर उसमें काला नमक मिलाकर खाएं इससे पेट संबंधी समस्या दूर हो जाती है।
  • अजवाइन हींग और काला नमक को बारीक पीस लें और सुबह शाम एक चम्मच गर्म पानी से खाएं इससे पेट अच्छी तरह साफ करता है।
  • दही पेट संबंधी समस्या के लिए बहुत अच्छा होता है इसलिए खाना खाने के बाद दही का सेवन अवश्य करें यह पेट को ठंडा रखता है तथा खाना पचाने में अत्यधिक मदद करता है क्योंकि इसमें पाचन शक्ति को बढ़ाने वाले कीटाणुओं की संख्या अधिक पाई जाती है।
  • खीरा अधिक से अधिक खाएं क्योंकि खीरा पेट के लिए काफी लाभदायक होता है।
  • पेट में गैस एसिडिटी बनने पर नींबू में जीरा अजवाइन पाउडर तथा सौंप और काला नमक मिलाकर पीने से पेट की गैस एसिडिटी समाप्त हो जाती है।
  • पेट गैस बनने पर लहसुन को आग में भूलने तथा इससे खाने पर पेट की गैस से छुटकारा मिल जाती है।
  • जलजीरा को पानी में मिलाकर पिए इससे कब्ज और गैस में काफी ज्यादा आराम मिलती है।

पतंजलि गैस की दवा Patanjali gas ki dava

आयुर्वेद की दुनिया में पतंजलि का नाम इस समय बहुत ही आगे है क्योंकि पतंजलि के product काफी ज्यादा कारगर साबित होते हैं इसलिए आज मैं आप लोगों के लिए पतंजलि कंपनी के कुछ गैस की दवाइयों के नाम आप लोगों को बताऊंगा जो पतंजलि स्टोर पर बड़ी ही आसानी से प्राप्त हो जाएंगे और उनका सेवन करने पर आपका पेट संबंधी संपूर्ण समस्या का समाधान हो जाएगा। आयुर्वेदिक दवाइयां का सेवन करने से शरीर पर कोई भी said effect नहीं होता है लिए भारत के लगभग 50% जनसंख्या आयुर्वेद पर भरोसा करती है और उसका लाभ प्राप्त करती है। आप भी आयुर्वेद पर भरोसा कर सकते हैं और यदि पेट गैस संबंधी समस्या से जूझ रहे हैं और आपको आराम नहीं मिल रहा है तो एक बार आप आयुर्वेद को अपनाकर अपनी समस्या से छुटकारा पा सकते हैं ,आयुर्वेद में दवाइयों का सेवन लंबे समय तक करना पड़ता है, क्योंकि यह अंग्रेजी दवाइयों की अपेक्षा ज्यादा दिन मैं कार्य करना शुरू करता है इसलिए इसका सेवन लंबे समय तक करने के बाद ही कुछ result देखने को मिलता है। आज हम बात करते हैं कुछ पतंजलि कंपनी के कुछ दवाइयों के बारे में जिनका इस्तेमाल करके आप लोग भी लाभ ले सकते हैं, और पेट गैस से पूरी तरह छुटकारा पा सकते हैं।
  1. दिव्य गैस हर चूर्ण divya gasher churn का इस्तेमाल करने से एक गैस एसिडिटी से पूरी तरह छुटकारा मिलता है। आपको पतंजलि स्टोर पर बड़ी ही आसानी से प्राप्त हो जाएगा।
  2. दिव्य अविपत्तिकर चूर्णdivya avipattiker churan यह एक प्रकार का पाउडर है जो कई कंपनियों के द्वारा बनाया जाता है। परंतु आपको पतंजलि कंपनी का ज्यादा अच्छाा रहेगा। इस चूर्ण को सुबह-शाम गर्म पानी के साथ खाएं जिससे पेट संबंधी समस्या गैस  अपच एसिडिटी संबंधी समस्या से छुटकारा मिल जाता है।
  3. पतंजलि हींग वटी pataniali heeng vati का प्रतिदिन सेवन करने से पेट में जलन तथा गैस संबंधी समस्या समाप्त हो जाती है।
  4. पतंजलि चवनप्राशpatanjali chayavanparash का सेवन करने से पेट की समस्या दूर हो जाती है इसे आप चाहे तो दूध से भी ले सकते हैं अन्यथा बिना दूध के भी ले सकते हैं।
  5. दिव्य उदरामृत वटी divya udramrit vati जो पतंजलि कंपनी का  है यह टेबलेट के रूप में होता है, इसका सेवन आप दो टेबलेट सुबह और दो टेबलेट शाम को कर सकते हैं। इससे कोई हानि नहीं है क्योंकि यह पूरी तरह आयुर्वेदिक है इसमें अनेक प्रकार के  हाजमे दार पेड़ पौधे की पत्तियों तथा फलों को मिलाकर बनाया जाता है इसमें आंवला, तुलसी, जीरा अजवाइन काला नमक आदि तमाम प्रकार के हाजमा दार पदार्थों को मिलाकर गोली बनाई जाती है जिनके सेवन से पेट संबंधी प्रॉब्लम दूर हो जाती है और इसका लाभ आप भी ले सकते हैं यह गोली आपको कोई भी पतंजलि स्टोर पर मिल जाएगी।
  6. पाचक शोधित हरड़ pachak shodhit haran पतंजलि कंपनी का प्रोडक्ट बहुत ही अच्छा और कारगर है क्योंकि इसमें हरण के द्वारा तथा और अन्य पदार्थ जैसे काला नमक समुद्री नमक आंवला आदि तमाम पाचकपदार्थों को मिलाकर बनाया जाता है जो पेट के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद होते हैं हरण हमारे पेट संबंधी समस्या के लिए बहुत ही ज्यादा अच्छा होता है क्योंकि आयुर्वेद की दुनिया में इससे जननी कहा गया है सिर्फ हरण का ही सेवन करने से पेट संबंधी संपूर्ण समस्या समाप्त हो जाती है क्योंकि पेट से ही अधिकतर बीमारियां का शुरुआत होता है। यह गोली ब्लड प्रेशर वालों को छोड़कर बाकी कोई भी पेट का मरीज खा सकता है क्योंकि इसमें नमक की मात्रा काफी ज्यादा होती है इसलिए ब्लड प्रेशर के मरीज के लिए ठीक नहीं है।

गैस की आयुर्वेदिक दवा gas ki ayurvedic dava

देर रात तक जगने से तथा काफी देर तक बैठकर से और तली हुई चीजें ज्यादा खाने से गैस एसिडिटी पेट में जलन आ दि तमाम समस्या जन्म ले लेती है। इन से छुटकारा पाना बहुत ही मुश्किल हो जाता है क्योंकि आजकल लोग खान-पान पर ध्यान नहीं दे पाते हैं जहां जो जी में आया वह खा ली उन्हें यह समझ नहीं होती है कि हमें किन पदार्थों का खाना उचित रहेगा जो उनके पेट के लिए लाभकारी होगा। इसलिए गैस्ट्रिक की प्रॉब्लम उनकी बढ़ती जाती है तमाम अंग्रेजी दवाइयों के सेवन करने से भी गैस की प्रॉब्लम ठीक नहीं होती है और वह दिन प्रतिदिन कमजोर और खोखले होते चले जाते हैं, अगर आपको भी ऐसा प्रॉब्लम है, आपको घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि जहां पर अंग्रेजी दवाइयां लाभ नहीं मिलता है वहां पर आयुर्वेद का सहारा दिया जाता है ,आयुर्वेद हमारे भारत में प्राचीन काल से ही काफी प्रभावी रहा है, अतः आयुर्वेद के कुछ दवाइयों के द्वारा हम गैस एसिडिटी पेट में जलन वह एसिड बनना जैसी समस्या से छुटकारा पा सकते हैं क्योंकि इसमें नेचुरल चीज का इस्तेमाल होता है इसमें कोई भी हानिकारक केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया जाता है जिससे यह शरीर का said effect नहीं करते हैं।
  1. Himalya Gasex teblet
  2. Dabur Gastrina teblets
  3. Vadynath trifla churn
  4. Gasofast
  5. Dauber heengvati
  6. Aloevera juice
  7. Amla juice
  8. Himalya Himcospaj 
इन सभी दवाइयों का इस्तेमाल करने से पूर्व डॉक्टर की सलाह लेना अत्यंत आवश्यक है यह हमारे शरीर के लिए लाभदायक है अथवा हानिकारक है कितनी does में कौन सी दवाई लेनी चाहिए इसका निर्धारण करने के लिए आप डॉक्टरी सलाह अवश्य ले। क्योंकि इनके डोज कम या ज्यादा हो जाते हैं तो यह शरीर के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

गैस की समस्या के लक्षण gas ki samasya ke lakshan

गैस्ट्रिक की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है, जिसके द्वारा शरीर में अनेक प्रकार की बीमारियां व्याप्त हो जाती क्योंकि खानपान के जरिए ही हमारे शरीर में बीमारियां फैलती हैं इसलिए हमें खानपान अत्यंत उचित ढंग से रखना चाहिए। कभी-कभी ऐसा होता है कि हमारे पेट में गैस बनती है और हमें लगता है कि हमें कोई अन्य problum है जिसके कारन भोजन नहीं खा पाते हैं, इसलिए आज हम आपको बताएंगे कि जब आप के पेट में गैस बनता है। तो आपको क्या क्या लक्षण दिखाई देने को मिलते हैं जिससे आप यह पता लगा सकते हैं कि हमें गैस की प्रॉब्लम है इसलिए उचित इलाज कर सकते हैं जिसके बारे में हमने ऊपर के पैराग्राफ में जिक्र किया है।
  • जब हमारे पेट में गैस बनती है तो सबसे पहले लक्षण यह दिखाई देने को मिलता है कि हमें भूख बिल्कुल भी नहीं लगती है।
  • पेट के ऊपरी हिस्से में हल्का दर्द बना हुआ रहता है।
  • खाना ना खाने के बाद भी पेट काफी ऊपर को उभरा हुआ होता है और ऐसा लगता है जैसे अभी अभी खाना खाया।
  • पेट में गैस बनने के कारण शरीर में सुस्ती रहती है तथा कोई भी कार्य करने को जी नहीं करता है।
  • बार-बार खट्टी मीठी डकार आती रहती है।
  • Toylet जाने के बाद toylet सही ना होने के कारण पेट साफ नहीं होता है।
  • बार-बार जी मचलाता है तथा उल्टी आने की संभावना बनी रहती है।
  • कभी-कभी पेट में बहुत तेजी के साथ दर्द होने लग जाता है जो बहुत ही असहनीय होता है।

गैस बनने के कारण gas banne ke Karan

गैस की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारे पेट में गैस किस वजह से बन रहा है ,और किस कारण से बन रहा है क्योंकि जब तक इस बात का पता नहीं लग जाता तब तक हम उसका सही इलाज नहीं कर सकते हैं। क्योंकि कई कारणों से गैस बनता है अतः अलग-अलग कारण के लिए अलग-अलग दवाइयों का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए आपको हम इन कारणों के बारे में बताएंगे कि आप भी इसका सही पता लगा सके, और इसका सही इलाज करने में कामयाब हो सके। पेट संबंधी समस्या अधिकतर खाने पीने वाली वस्तुओं से होती है तो वस्तुएं कौन-कौन सी हैं जिन्हें में नहीं खाना चाहिए और कौन सी वस्तुएं हैं जिन्हें खाना चाहिए और हमारे पेट के लिए अत्यंत लाभदायक होते हैं।
  • फास्ट फूड जैसे चाऊमीन पिज्जा टिक्की गोलगप्पे इत्यादि खाद्य सामग्री हमारे पेट के लिए काफी हानिकारक होती है इन्हें खाने से हमारे पेट में गैस जलन एसिडिटी आदि समस्या होने लग जाती है।
  • ज्यादा तली भुनी हुई चीजें खाने से पेट में गैस की प्रॉब्लम बढ़ती है जैसे समोसा, पूडी ,पकोड़ी आदि।
  • शराब का अत्यधिक सेवन करने से पेट की प्रॉब्लम बढ़ती है क्योंकि यह किडनी में जाकर उसे हानि पहुंचाती है जिसके कारण पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है।
  • मीट मछली का अधिक सेवन करने से पेट संबंधी प्रॉब्लम बढ़ जाती है क्योंकि इनमें अत्यधिक गर्म मसालों का प्रयोग किया जाता है जो पेट के लिए काफी हानिकारक होते हैं।
  • अधिकतर खट्टे पदार्थ खाने के कारण पेट में asid और गैस बनता है।
  • देर रात तक जगने से पेट संबंधी problum बढ़ता है। अतः समय से सोएं की सुबह जल्दी नींद खुले और और टॉयलेट भी अच्छी तरह से हो जाए जिससे पेट साफ हो जाती है।
  • अधिक देर तक एक जगह बैठे रहने से पेट संबंधित प्रॉब्लम होता है जैसे दुकान का काम ऑफिस का काम आदि तमाम ऐसे काम है जो अधिक देर तक एक जगह पर बैठे रहना पड़ता है।
  • अगर आप प्रतिदिन कोई टेबलेट खा रहे हैं उसके कारण भी पेट में गैस बनता है।
  • बासी भोजन करना पेट गैस की समस्या का कारण है।
  • सुबह नाश्ते में खाली पेट चाय पीने से पेट में गैस बनती है।
  • ज्यादा गर्म तासीर वाले खाद्य पदार्थ खाने से पेट में गैस की समस्या उत्पन्न होती है जैसे उड़द की दाल उड़द का बरा, चना, मटर, राजमा ,पनीर इत्यादि।
  • सुबह उठकर व्यायाम न करना गैस एसिडिटी का कारण है।
  • ज्यादा गुटखा खाना पेट गैस की समस्या का मुख्य कारण है क्योंकि हमारे मुंह में जो खाने बचाने वाले लार बनते हैं वह गुटका खाने पर मुंह से बाहर निकल जाता है जिससे हमारे शरीर में उस लार की कमी हो जाती है और बदहजमी गैस एसिडिटी जैसी प्रॉब्लम आने लग जाती है।
  • कभी-कभी ऐसा होता है की भोजन हमें बहुत अच्छा लगता है ज्यादा खा लेते हैं जिसके कारण पेट में गैस और दर्द होने लग जाता है।
  • उम्र बढ़ने पर हमारी पाचन शक्ति कमजोर हो जाता है जिससे गैस संबंधित प्रॉब्लम आने लग जाते हैं।

गैस की अंग्रेजी दवा का नाम gas ki angreji dava ka naam

आजकल खानपान सही ढंग से ना होने के कारण गैस बनना एक साधारण समस्या बन चुका है। परंतु इस समस्या से होने वाली परेशानी बहुत ज्यादा विकराल होती है। क्योंकि गैस्ट्रिक काproblum ऐसा प्रॉब्लम है जो संपूर्ण शरीर को झकझोर कर रख देता है ,क्योंकि यदि हम भोजन ठीक से नहीं कर पाएंगे या खाना हमारे पेट में सही से नहीं पचेगा जिससे हमारे शरीर को एनर्जी नहीं मिल पाती है , फलस्वरूप कमजोरी तथा खून की कमी पूरे शरीर में शोथ चढ़ने,जैसी समस्या उत्पन्न होती है। खाना हजम ना होने के कारण blood pressure low हो जाता है जिसके कारण कमजोरी, चक्कर आना, बेहोशी छाना आंखों के सामने धुंधला दिखाई देना जैसी समस्या आपकी शरीर में घर कर लेती है। इस समस्या से निपटने के लिए मार्केट में तमाम कई ऐसी दवाइयां हैं जिनके द्वारा हम पेट गैस संबंधी समस्या से निपटने में कामयाब हो सकते हैं। आइए जानते हैं उन अंग्रेजी दवाइयों के नाम जिनके इस्तेमाल से आपका पेट साफ हो जाएगा और आप अपने आप को एकदम हल्का महसूस करने लग जाएगे।
  1. dulkoflex teblet
  2. Acilock tablets
  3.  Rebikind ds capsule
  4. Amlycure D’s syrup
  5. Rzole D’s tablets
  6. Pantop d tablets
  7. Eno paweder
  8. Benjaim c syrup
  9. Digen syrup
आप इन दोनों में से किसी भी दवाई का इस्तेमाल करके गैस तथा एसिडिटी से छुटकारा पा सकते हैं। इनका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह देना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि इन्हें कितनी मात्रा में लेना है । और कब कब लेना है इसका जानकारी दिए बिना यह हानिकारक हो सकता है।

गैस की अर्जेंट दवा gas ki urgent dawa

कभी-कभी ऐसा होता है कि हम जाने अनजाने में कोई ऐसी खाद्य सामग्री खा लेते हैं, जिसे हमें नहीं खाना चाहिए,फलस्वरूप हमारे पेट में बहुत ज्यादा गैस बन जाती है ,जिससे हमारी दम घुटने लग जाती है।और पेट गले तक फूलता चला जाता है, तथा बहुत तेज की दर्द होती है। उस समय हम यह सोचते हैं कि किस तरह यह गैस जल्दी से जल्दी ठीक हो जाए और हम  छुटकारा पा जाएं। आपको भी यदि ऐसा प्रॉब्लम कभी कभार होता है ,तो हमारे द्वारा बताए गए दवाई को एक बार नोट कर लीजिए, मैं गारंटी लेता हूं कि आप इस दवाई को जिंदगी भर याद रखेंगे। इसकी क्या कीमत है कैसी से बनाई जाती है तथा इसकी does किस तरह लेनी चाहिए, और कब कब लेनी चाहिए। इसके बारे में हम आपको पूरी देंगे। उस दवाई का नाम है छोटी हरड़। मार्केट में आप कोई भी आयुर्वेदिक स्टोर पर जाकर छोटी हरण बताकर यह दवाई ले सकते हैं। इसकी कीमत की बात करें तो यह लगभग 330 रुपए किलो है। यह काले रंग की मूंगफली के दाने कितना बड़े-बड़े इस के दाने होते हैं। इसका फोटो में आपको इस पोस्ट में दे रहा हूं जिसको आप लेने के बाद मैच कर सकते हैं। छोटी हरड़ को देसी घी में अच्छी तरह भून लें उसके बाद मिक्सर जार में इस डालकर अच्छी तरह पीस लें। फिर इसके आधा मात्रा में काला नमक अच्छी तरह मिक्स कर दें। बस हो गई आपकी दवाई तैयार, इसकी does की बात करें तो लगभग आधा चम्मच normal है जो आप खाना खाने के बाद खा सकते हैं जिससे पेट में गैस नहीं बनेगा और खाना जल्दी पच जाएगा। यदि आपको बहुत ज्यादा गैस बन रहा है तो आप एक भर के चम्मच इस पाउडर को खाकर गर्म पानी पी ले 10 मिनट wait करें 10 मिनट बाद आपको बार-बार टॉयलेट आएगी ,और आधे घंटे के अंदर आपके पेट में बनने वाली भयंकर से भयंकर गैस से छुटकारा मिल जाएगा, और आपका पेट एकदम हल्का हो जाएगा। परंतु ध्यान रहे यह दवाई खाने में थोड़ा कड़वाा लगता है इसलिए बच्चे इस दवा को नहीं खा पाते हैं।

पेट में गैस बनने वाली चीजों के नाम Pet mein gas banne wali chijon ke naam

हमारा खान-पान सही ना होने के कारण हमारे पेट में गैस बनती है, यदि हम अपने खानपान का तरीका सही रखें तो गैस की प्रॉब्लम कम से कम बनेगी। इसलिए आज हम उस खाद्य सामग्री के बारे में बताने वाले हैं जिनके खाने से गैस की प्रॉब्लम होती है।
  • कटहल की सब्जी खाने से पेट में गैस बनती है क्योंकि यह अत्यंत जटिल होती है जिसके कारण पक जाने के बाद भी यह पेट के अंदर अच्छी तरह पचती नहीं है जिससे पेट गैस की समस्या उत्पन्न होती है।
  • लाल मिर्च का सेवन कम से कम मात्रा में करना चाहिए क्योंकि लाल मिर्च पेट के अंदर जाकर जलन तथा दर्द उत्पन्न करती है अतः जहां तक हो सके हरी मिर्च खाना चाहिए लाल मिर्च सिर्फ सब्जी को देखने में अच्छा बनाती है परंतु पेट के लिए बहुत हानिकारक होती है।
  • अरबी तथा अरबी के पत्ते खाने में तो बहुत स्वादिष्ट लगते हैं परंतु यह पेट के लिए काफी हानिकारक होते है। इसे खाने से पेट में गैस एसिडिटी आदि बनने की समस्या होने लग जाती है।
  • सफेद छोले खाने में बहुत ही मजेदार लगते हैं लोग बड़े ही चाव से इसकी सब्जी तथा टिक्की के साथ खाते हैं। परंतु पेट के लिए यह काफी नुकसानदायक होते हैं।
  • गरम मसाले सब्जियों में डालने से सब्जी का टेस्ट बहुत ज्यादा बढ़ जाता है परंतु यह पेट के लिए कितना नुकसान दायक है इसका अंदाजा कोई नहीं लगा सकता है अतः आप यदि gastric के मरीज है तो आप गरम मसाला खाना बिल्कुल भी बंद कर दीजिए सब्जी में सिर्फ हल्दी डालकर और नमक डाल कर ही खाएं।
  • ज्यादा oiley खाना अर्थात तले भुने हुए खाद्य सामग्री खाने से पेट के प्रॉब्लम विकराल रूप धारण कर लेती है इसलिए ऑयली खाना बिल्कुल कम कर दीजिए अथवा बंद कर दीजिए।
  • राजमा की दाल अथवा सब्जी बहुत ज्यादा गर्म होती है जिसको खाने से गैस दस्त ,एसिडिटी आदि समस्या होने लग जाती है।
  • बैगन की सब्जी अत्यंत गर्म होती है यह पेट में जाकर जलन उत्पन्न करती है अतः यदि आपको गैस की प्रॉब्लम है तो बैगन की सब्जी नहीं खाना चाहिए।
  • उड़द की दाल खाने से पेट गैस प्रॉब्लम बढ़ जाता है। क्योंकि उडद काफी गर्म और जटिल होता है।
  • पेट गैस में दूध ना पिए क्योंकि दूध में प्रोटीन तथा कैल्शियम की मात्रा बहुत ज्यादा होती है और पाचन शक्ति कमजोर होने के कारण यह अग्नाशय में सही ढंग से पच नहीं पाती है जिसके कारण गैस और एसिडिटी की प्रॉब्लम होने लग जाती है।

सिर में गैस चढ़ने के उपाय solution of gastric headache

पेट में गैस बनना एक ऐसी समस्या है जो कभी कभी बहुत ज्यादा गंभीर रूप धारण कर लेती है और हमें समझ में नहीं आता है कि यह किस वजह से हो रहा है। कभी-कभी आपके सिर में अक्सर दर्द महसूस होने लग जाता है कभी-कभी पेट में दर्द महसूस होने लग जाता है यह दर्द गैस के कारण भी हो सकता है। जब हमारे शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड गैस की मात्रा अधिक हो जाती है तो वह शरीर के कई अंगों में प्रवेश कर जाती है जिसके कारण उस अंग में दर्द महसूस होने लग जाता है। आपको बार-बार सिर दर्द को problum हो रहा है खान-पान पर ध्यान देना चाहिए। पेट की समस्या से निपटना चाहिए। यदि गैस बार-बार सिर में प्रवेश करता है तो उसके लिए मैं आपको कुछ उपायों के बारे में बताऊंगा जिसके द्वारा आप इससे छुटकारा पा सकते हैं।
  • प्रतिदिन सुबह उठकर खुली हवा में घूमना चाहिए तथा व्यायाम करना चाहिए जिससे हमारे पेट संबंधी समस्या ठीक रहेगी।
  • नौकासन करने से पेट तथा सिर में गैस की समस्या दूर हो जाती है। इस आसन में पीठ के बल सीधा लेट जाएं तथा धीरे-धीरे अपने दोनों पैर को सीधा ऊपर की तरफ थोड़ा उठाएं और साथ ही साथ बिना हाथ लगाए अपने सिर और कंधों को थोड़ा उठाकर रखें। आप जितने भी समय तक इसको रख सकते हैं उठाकर रखें उसके बाद थोड़ा आराम करके फिर से इस आसन को दोहराएं।
  • कंधरासन करने से पेट संबंधी प्रॉब्लम दूर होती है इसमें कंधे और पैर जमीन पर लगे हुए होते हैं बाकी पूरा शरीर ऊपर उठा हुआ होता है।
  • गर्म पानी का सेवन करने से पेट गैस संबंधी प्रॉब्लम दूर हो जाता है।
  • तुलसी के पत्तों को चबाकर निगल जाएं इससे सिर पेट में गैस से निजात मिलता है।
  • शीर्षासन करने से सिर में बनने वाली गैस से छुटकारा मिल जाता है।

निष्कर्ष conclusion

संपूर्ण पोस्ट पढ़ने के पश्चात यह निष्कर्ष निकलता है कि पेट की समस्या एक बहुत ही जटिल समस्या है ,जो हमारे शरीर को कमजोर खोखला बना सकती है, क्योंकि खानपान से ही शरीर चलता है इसलिए हमें गैस संबंधी प्रॉब्लम से निपटने के लिए अनेक प्रकार के टैबलेट घरेलू नुस्खे तथा आयुर्वेदिक दवाइयां का पता चलता है जिनके इस्तेमाल से इस समस्या से निपटने में कामयाब हो सकते हैं। पेट गैस से निपटने के लिए दवाइयों के साथ-साथ कुछ खानपान का परहेज की करना चाहिए जो हमारे पेट के लिए बहुत हानिकारक होते हैं उनका सेवन हमें बिलकुल छोड़ देना चाहिए। क्योंकि शरीर को चलाने वाला सिर्फ पेट ही है यदि हमारा पेट ठीक नहीं रहेगा तो शरीर चलने में परेशानी हो जाएगा।अतः यह पोस्ट पढ़ने पर हमें अपने प्रॉब्लम का उचित सलूशन मिल जाता है। इससे और अच्छे ढंग से समझने के लिए कुछ प्रश्न उत्तर ध्यान देना चाहिए।
प्रश्न 1-पेट गैस किस कारण से बनता है?
उत्तर-ज्यादा तीखी खट्टी मीठी तली भुनी हुई खाद्य सामग्री तथा ज्यादा रात तक जगने से और अधिक देर तक एक जगह बैठने से पेट गैस की समस्या का मुख्य कारण है।
प्रश्न 2-पेट में गैस बनने पर क्या क्या लक्षण दिखाई देते हैं?
उत्तर -पेट गैस बनने पर हमारा पेट फूला हुआ रहता है, भूख ना लगना खट्टी मीठी डकार आना मलद्वार के रास्ते गैस पास ना होना आलस्य और सुस्ती आना पेट गैस का मुख्य लक्षण है।
प्रश्न 3-पेट गैस की आयुर्वेदिक दवा कौन सी है?
उत्तर-पेट गैस की आयुर्वेदिक दवा छोटी हरड़ है।
प्रश्न 4-पेट गैस की पतंजलि दवा कौन सी है?
उत्तर-पेट गैस की पतंजलि दवा दिव्य गैस हर चूर्ण है।
प्रश्न 5-पेट गैस की अंग्रेजी दवा कौन सी है?
उत्तर-पेट गैस की अंग्रेजी दवा dulkoflex व acilock हैं।
Disclaimer
हमारे द्वारा बताए गए दवाइयां तथा नुस्खों का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना अत्यंत आवश्यक है अन्यथा इसके इस्तेमाल से होने वाली कोई भी नुकसान के जिम्मेदार सिर्फ आप होंगे। Website owner कि कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button